नीरवता

शुक्रवार, जून 25, 2004

हाय...ये बेवफाई

सुना है, आजकल जिन सॉफ्टवेअर संस्थाओं से कर्मचारी का बडी संख्या में पलायन हो रहा है, वहाँ के नियोक्ता ग़ालिब का एक शेर पढते है -

दिल-ए-नादां तुझे हुआ क्या है, आखिर इस दर्द की दवा क्या है
हमको उनसे वफा की है उम्मीद, जो नहीं जानते वफा क्या है

1 Comments:

एक टिप्पणी भेजें

<< Home